मुश्किलों के मुसाफिर

कुछ किताबें ऐसी होती हैं, जिनके बारे में कुछ कहना सूरज को चिराग दिखाने जैसा होता है. जूल्स वर्न की जर्नी टू द सेंटर आॅफ द अर्थ ऐसी ही एक किताब है. इसका हिंदी अनुवाद फ्लाईड्रीम्स पब्लिकेशंस ने प्रकाशित किया है. जैसा कि इसके नाम… Read More

टैटू से टर्न ऑन

टैटू और सेक्स में क्या कोई रिलेशन हो सकता है? एक स्टडी के अकाॅर्डिंग वूमैन ऐसे मेल को बेड में ज्यादा प्रीफर करती हैं, जिन्होंने शरीर पर टैटू बनवाएं हों. यह स्टडी कहती है कि, सेंस ऑफ ह्ययूमर, अट्रेक्टिव लुक, जेंटलमैन बिहेवियर जैसी महिलाओं को अट्रेक्ट करने… Read More

मनुष्यों पर भारी मशीनें

इंसान और मशीनों का रिश्ता सैकड़ों साल पुराना है. इंसान मशीनें बनाता है और मशीनें इंसान के काम आती हैं. लेकिन जब इंसान मशीनों को इंसान बनाने लगे और खुद मशीन में बदलता जाए तो किस तरह की स्थिति उत्पन्न होगी, फिलहाल इसके बारे में… Read More

बिज इन सिंगापुर

इजी आॅफ बिजनेस डूइंग को अमल में लाने की तमाम कोशिशों के बावजूद, अभी भी देश के नव उद्यमियों का एक बड़ा वर्ग ​सिंगापुर में कंपनी रजिस्टर्ड कराकर बिजनेस शुरू करने का काफी इच्छुक नजर आता है. क्या इस अट्रेक्शन की वजह स्टेटस सिम्बल की… Read More