स्वर्णप्राशन संस्कार 18 को

नागपुर. जरीपटका स्थित जीकुमार आरोग्यधाम में आरोग्यधाम हेल्थकेयर सोसायटी के तत्वाधान में स्वर्णप्राशन संस्कार व बालरोग शिविर का आयोजन दि. 18 ऑक्टोबर 2022 (मंगलवार) सुबह 12 से 3 व शाम 7 से 9 बजे तक किया गया है।

डॉ.जी.एम.ममतानी ने बताया के बच्चों मे किये जानेवाले मुख्य 16 संस्कारों मे से स्वर्णप्राशन स्वास्थ्य की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण संस्कार है। आधुनिक वैद्यकीय प्रणाली मे जिस प्रकार बच्चों की रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ाने और बच्चों को सामान्य रोगों से बचाव के लिए भिन्न-भिन्न टीके (Vaccines) का इस्तेमाल किया जाता है, ठीक उसी प्रकार आयुर्वेद के काल से बच्चों को रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ाने के लिए स्वर्णप्राशन संस्कार विधि की जाती है। यह एक प्रकार से आयुर्वेदिक टीकाकरण (Immunization) की प्रक्रिया है। स्वर्णप्राशन संस्कार में बच्चों को आयुर्वेदिक औषधि से सिद्ध शुद्ध स्वर्ण का मिश्रण चटाया जाता है। यह संस्कार महिने में एक बार पुष्य नक्षत्र के दिन करते है। जन्म से लेकर 16 वर्ष के आयु तक के बच्चों में स्वर्णप्राशन संस्कार किया जाता है। बच्चों की बुद्धि का 90 प्रतिशत विकास 5 वर्ष की आयु तक हो जाता है और इसलिए जरुरी है कि उन्हें बचपन से ही स्वर्णप्राशन किया जाए।
जीकुमार आरोग्यधाम के संचालक डॉ.जी.एम.ममतानी व डॉ अंजू ममतानी के अनुसार स्वर्णप्राशन कराने से बच्चो में रोग प्रतिकारशक्ति (Immunity) बढ़कर कोविड से बचाव होता है व स्वस्थ आयु बढ़ाता है। बच्चे शारीरिक व मानसिक रुप से मजबूत बनते है और उनका स्टेमिना (Stamina) हम उम्र के बच्चों से ज्यादा बेहतर रहता है तथा बुद्धि व स्मरण शक्ति तेज होती है। हायपरएक्टिव व गुस्सा करने वाले बच्चों को स्वर्णप्राशन लाभ देता है व पाचन क्रिया ठीक से होती है जिससे भूख अच्छी लगती है। बच्चों के रंग और रुप मे भी निखार व वाणी स्पष्ट करता है। एलर्जी के कारण उत्पन्न कफविकार जैसे बार-बार सर्दी, बुखार, खांसी, दमा, बालकफ और खुजली, टान्सीलाइटिस, कृमि की समस्या दूर होती है। वजन व लंबाई समयानुसार बढ़ती है व रात को बिस्तर गीला करने की आदत छूटती है। एक साल का होने पर भी चलने में असमर्थ होने पर स्वर्णप्राशन करने से लाभ प्राप्त होता है।
जीकुमार आरोग्यधाम में पिछले 5 वर्षाें से हजारों बालकों ने स्वर्णप्राशन शिविर का लाभ लिया है और पाया गया है कि बार-बार होनेवाली बीमारियां जैसे मौसम परिवर्तन होनेपर सर्दी, खांसी, पेट की तकलीफ इत्यादि कम हुई है। शिविर में आए हुए पालकों को स्वास्थ्य वाटिका पत्रिका निःशुल्क दी जाएगी। साथ ही आयुर्वेदिक औषधि, पॅथोलाजी जाँच अल्प दरों में की जाएगी। अतः इस शिविर का लाभ अवश्य उठाएं। इच्छुक पालक जीकुमार आरोग्यधाम में फोन नं. 0712-2646600, 2647600, 2634415, 9373397258 पर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
इस स्वर्णप्राशन शिविर में श्री प्रताप मोटवानी व डॉ. रिचा जैन की क्रमश: विश्व सिंधी सेवा संगम (VSSS) तथा 24 स्टार प्राइड क्लब संस्थाएं सहयोग कर रही है।

Add Comment