जहाज उगलेगा राज

विश्व के सर्वाधिक अजूबों और अनसुलझे रहस्यों में से एक है, बरमूडा ट्राइएंगल. दशकों से वैज्ञानिक यह जानने में लगे हैं कि हैं कि आखिर इस क्षेत्र के ऊपर से होकर गुजरने वाले विमान इस तरह कैसे गायब हो जाते हैं कि किसी को उनका सुराग तक नहीं मिलता कि उन्हें समंदर निगल गया या आसमान खा गया.

लेकिन, अब इस रहस्य पर से पर्दा उठने की उम्मीद की जा रही है. इसमें मुख्य भूमिका अदा करेगा, द सांद्रा नामक एक कार्गो जहाज का मलवा, जिसे विमानों की खोज में लगे विशेषज्ञों की टीम ने स्थानीय मछुआरों की मदद से कुछ अर्सा पहले खोज निकाला था.

यह जहाज अप्रैल 1950 में जॉर्जिया से वेनेजुएला के सफर पर था और शायद नेविगेशन की गड़बड़ी के चलते, बरमूडा ट्राइएंगल की रेंज में दाखिल हो गया. इसके बाद उसका कोई अता—पता नहीं मिला.

185 फुट के इस जहाज पर 300 टन कीटनाशक ले जा रहे एक दर्जन लोग सवार थे. जिस स्थान से यह गुजरा था, वहीं पर उसके अवशेष मिले हैं, जिससे अनुमान लगाया गया कि यह मलबा इसी जहाज का हो सकता है. विशेषज्ञ उम्मीद कर रहे हैं कि इस खोज से इस शापित क्षेत्र के रहस्यों का पता लग सकता है.

Add Comment