ठंडा हो जाएगा सूरज

कम से कम एक महत्वपूर्ण स्टडी का तो यही दावा है कि अगले दस—बारह सालों में सूरज की गर्मी शांत हो सकती है. अगर ऐसा हुआ तो इसके असर से धरती पर आईसएज की शुरूआत हो सकती है. इस स्टडी में बताया गया है कि 2030 तक सूर्य की गतिविधियों में लगभग 60 प्रतिशत तक कमी आ जाएगी. इसी से मिलते-जुलते हालात 1645 में भी नोटिस किए गए थे और उनसे अर्थ पर मिनी आईसएज स्टार्ट हो गया था. यह दावा तीन सोलर साइकिल्स की स्टडी के आधार पर किया गया है.

Image courtesy: nymixArt (Pixabay)

कैलीफोर्निया की विल्कॉक्स सोलर आब्जर्वेट्री के रिसर्चर्स की टीम ने 1976 से 2008 के बीच सोलर साइकिल्स की स्टडी की थी. दो सोलर सर्किल्स के बीच नाॅर्मली 11 ईयर्स का डिफरेंस होता है. लेकिन स्टडी के अकाॅर्डिंग अब यह सीक्वेंस डिस्टर्ब हो रही है. इन सोलर साइकिल्स के दौरान उठने वाली चुंबकीय तरंगों का स्तर भी अलग अलग होता है. स्टडी वार्न करती है कि 2030-40 के दौरान सूर्य के नाॅर्थ और साउथ गोलार्द्ध में एक ही समय पर तंरगें उठेंगी और दोनों एक दूसरे के असर को लगभग खत्म कर देंगी जिससे धरती पर हिमयुग की शुरूआत हो सकती है.

इसी तरह की एक रिसर्च जर्मनी के मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट में भी हुई थी, जिसमें अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के केपलर स्पेस टेलीस्कोप से मिले आकंड़ों का अध्ययन करने के बाद अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने दावा किया था कि धरती को ऊर्जा देने वाला सूरजआकाशगंगा में मौजूद अन्य तारों की तुलना में अब कम चमक रहा है यानि पहले की अपेक्षा इसकी रोशनी में कमी आई है. इन वैज्ञानिकों का कहना है कि पिछले 9000 सालों से इसकी चमक में 5 गुना कमी आई है. वैज्ञानिक इसके पीछे की वजह तलाशने में लगे हैं. ज्ञातव्य है कि सूरज और उसके जैसे अन्य तारों का अध्ययन उनकी उम्र, चमक और रोटेशन के आधार पर किया जाता है. अब यह बात किसी से छिपी नहीं है कि हमारी आकाशगंगा में सूरज से भी ज्यादा सक्रिय असंख्य तारे मौजूद हैं.

सूर्य की सतह पर बनने वाले सन स्पॉट इस तरह की स्टडी में काफी अहम भूमिका निभाते हैं. मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक इस बात से हैरान हैं कि सूरज पिछले कुछ हजार साल से शांत बन हुआ है. अध्ययन से पता चला है कि साल 1610 से लगातार सूरज पर बनने वाले सन स्पॉट कम होते जा रहे हैं. सूरज के केंद्र से जब गर्मी की तेज लहर ऊपर उठती है तो सन स्पॉट बनते हैं. सूरज के केंद्र में अगर आग का विस्फोट नहीं हो रहा हो और सन स्पॉट नहीं बन रहे हैं तो इसका मतलब ये है कि सूरज अन्य तारों की तुलना में यकीनन कमजोर हुआ है.

  • संदीप अग्रवाल

Add Comment