कमान से निकला तीर…

जोश में आकर ट्वीट कर देना और फिर बाद में विवाद होने पर उसे अकाउंट से हटा देना…बहुत सारे नेता-अभिनेता या दूसरे क्षेत्रों के मशहूर लोग आए दिन ऐसा करते रहते हैं. और तब भी बात न बने तो बोल देते हैं कि फलां ट्वीट या पोस्ट मैंने नहीं की है, बल्कि किसी ने मेरा अकाउंट हैक करके इसे अंजाम दिया था.


जिंदगी चाहे रीयल हो या वर्च्युअल, यह कहावत इसके साथ हमेशा लागू होती है कि कमान से निकला तीर और जुबां से निकली बात वापस नहीं आते. यह अकेले में किसी कागज पर पेंसिल से खींची गई लकीर नहीं है, जिसे तुरंत रबर से रगड़कर मिटाया जा सके. 
जुबां से बात निकलती है तो, अगर उसे किसी कैमरा या टेपरिकॉर्डर में कैद नहीं किया गया है, उससे मुकरना मुश्किल होता है, पर नामुमकिन नहीं. लेकिन, सोशल मीडिया पर कहने और मिटाकर मुकरने के कोशिश के बीच के चंद ही सेकेंड में वह टेराबाइट्स की रफ्तार से सारी दुनिया में फैले आपके सैकड़ों-हजारों फालोअर्स और उनकी शेयरिंग, रिट्वीटिंग के जरिए लाखों लोगों तक पहुंच जाती है…और आपके या किसी के भी साथ जो कुछ बुरा होना होता है, उसके बीज पड़ जाते हैं.
इस आभासी दुनिया में आपके सारे फैन, फ्रेंड्स या फालोअर आपके हितचिंतक या दोस्त नहीं होते, उनमें से कई आपसे खार खाने वाले, आपकी जड़े खोदने के लिए आपकी किसी एक गलती की ताक में घात में लगाकर बैठे छिपे दुश्मन भी हो सकते हैं. उनसे आपको सिर्फ आप ही बचा सकते हैं. चाहे अपनी वाल पर की गई पोस्ट हो या किसी की पोस्ट पर कमेंट, ट्वीट हो या लाइक या शेयर…वर्च्युअल दुनिया में सब कुछ ऑन रिकॉर्ड रहता है, मिट जाने के बाद भी, इसलिए यहाँ छाछ की हर घूंट को फूंक-फूंक कर पीना जरूरी है, और इसके लिए दूध से मुंह जलने का इंतजार करना जरूरी नहीं है.

Add Comment