ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल प्रोजेक्ट चार साल में

देश की अपने ढंग की अनोखी रेलवे लाइन उत्तराखंड में आकार ले रही है. ऋषिकेश और कर्णप्रयाग को जोड़ने वाली इस लाइन को 2024 में पूरा कर देश को समर्पित करने की दिशा में तेजी से काम चल रहा है.

Image and Text courtesy: Wikipedia.org

सवा सौ किलोमीटर लंबी इस रेल लाइन का 90% हिस्सा 17 सुरंगों से होकर गुजरता है, जिनमें सबसे लंबी सुरंग 15 किलोमीटर लंबी है, जो देश की सबसे लंबी रेल टनल है. अभी सबसे लंबी रेल सुरंग बनिहाल में है, जिसकी लंबाई 11.2 किमी है. सुरंगों के अलावा इसमें 35 पुल और करीब एक दर्जन रेलवे स्टेशन हैं, जिनमें से दस स्टेशन अंडरग्राउंड हैं.

ऋषिकेश से सड़क मार्ग द्वारा कर्णप्रयाग जाने में अभी करीब सात घंटे लगते हैं. इस रेल लाइन के पूरा होने के बाद सिर्फ दो घंटे में दूरी तय की जा सकेगी. परियोजना पर 16,216 करोड़ रु. का खर्च आने अनुमान है.

Add Comment