द एड्रेस

आज मुझे एक ऐसी फिल्म देखने को मिली, जिसके बारे में न लिखना फिल्म के साथ ज्यादती ही होगी… यह फिल्म है, मेलविलासम (अंग्रेजी नाम द एड्रेस करीब पौने दो घंटे की यह मलयालम मूवी एक सैन्य—कोर्टरूम ड्रामा है, जिसमें आरोपी एक जवान है, जो अपने दो अधिकारियों पर गोली चलाकर एक को मार डालने और दूसरे को घायल करने का अपराधी माना जा चुका है और अपना अपराध स्वीकार कर चुका है.

इसके बावजूद जिरह की जरूरत है, क्योंकि वकील—ए—सफाई यह मानता है कि भले ही वह अपने मुवक्किल को फाँसी से न बचा सके, लेकिन उसने ऐसा क्यों किया, इसकी वजह सबके सामने आना जरूरी है. और इस वजह को जानने के क्रम में जो जिरह का सिलसिला शुरू होता है, वह भारतीय सेना की बहुत सारी विसंगितयों व जातीय और पदीय श्रेष्ठता के दंभ, अपने अधीनस्थों को हीन समझने की ग्रंथि जैसे अनेक कुरूप तथ्यों को उजागर करते हुए खत्म होता है. फिल्म का लगभग 99 प्रतिशत हिस्सा, एक ही हॉल में फिल्माया गया है, लेकिन कैमरा इतनी कुशलता से अपना काम करता है कि कहीं एहसास ही नहीं होता कि फिल्म ठहरी हुई है.

फिल्म की लाइटिंग, कैमरे के एंगल, फ्रेमिंग सब कुछ बहुत जबर्दस्त् है, जिसमें कहीं—कहीं सुनाई देता एकदम उपयुक्त पार्श्व संगीत प्राण फूंक देता है. पात्रों में एक अपमानित अपराधी है, एक हारी हुई लड़ाई लड़ रहा वकील—ए—सफाई है, एक दंभी सैन्य अधिकारी है, एक फर्ज निभाने की सख्ती और मानवीय संवदेनाओं के बीच संतुलन बिठाता प्रीसाइडिंग आॅफिसर है, गवाह हैं, कोर्ट के कर्मचारी हैं.
फिल्म के छोटे से छोटे कलाकार का अभिनय बेहद संयत, संजीदा और स्वाभाविक है. कुल मिलाकर हटकर फिल्म देखने के इच्छुक सिनेलवर्स के लिए यह एक मस्ट वाच मूवी है. जिन्होंने सालों पहले दूरदर्शन पर आई वासु चटर्जी की एक रुका हुआ फैसला देखी है, उनके लिए यह फिल्म देखना एक विशिष्ट अनुभव होगा, क्योंकि यह उसका एक भव्य विस्तार है. आईएमडीबी की बात करें तो वहाँ पर इसे 7.7 रेटिंग मिली है. बस इसमें एक ही बात खटकती है, वह है कि फिल्म के कई पात्रों का गेटअप और कदकाठी लगभग एक जैसी लगती है, जिसकी वजह से कई बार पात्रों को पहचानने में दिमाग को अतिरिक्त कसरत करनी पड़ती है, जिससे फिल्म के रसास्वादन में व्यवधान सा महसूस होता है. यूट्यूब पर यह फिल्म हिंदी डबिंग के साथ उपलब्ध है. चित्र पर क्लिक कर आप लिंक (उपलब्धता पर निर्भर) पहुँच सकते हैं.

  • संदीप अग्रवाल

One thought on “द एड्रेस

  1. शानदार फ़िल्म
    हिंदी में कोर्ट मार्शल के नाम से बनी है

Add Comment